रांची में मुख्यमंत्री ने किया कौशल कॉलेज का उद्घाटन, बोले- 5 जिलों में खुलेंगे नर्सिंग कॉलेज


    रांची के नगरा टोली में राज्य सरकार और प्रेझा फाउंडेशन के संयुक्त तत्वावधान में नव निर्मित कौशल कॉलेज का शनिवार को मुख्यमंत्री रघुवर दास ने उद्घाटन किया। इस दौरान उन्होंने संबोधित करते हुए कहा कि आज आनंद का दिन है। आज एक ओर वायु सेना के वीर कमांडर अभिनदंन की देश वापसी हो रही है। वहीं दूसरी ओर राज्य की युवतियों के स्वावलंबन के द्वार खुल रहे हैं। राज्य का सम्पूर्ण विकास झारखण्ड की महिलाओं और युवतियों के सहयोग के बिना नहीं किया जा सकता। यही वजह रही कि आज 360 युवतियों को हुनरमंद बनाने के लिए कौशल कॉलेज का उद्घाटन हो रहा है। दुबई में भी रोड शो के दौरान मैंने सोचा था कि क्या झारखण्ड में भी अत्याधुनिक सुविधा युक्त कौशल कॉलेज का निर्माण संभव होगा ? आज वही सोची हुई बात, हकीकत में तब्दील हुई और राज्य सरकार इस तरह के कौशल कॉलेज की स्थापना प्रेझा फाउंडेशन के सहयोग से प्रारम्भ कर रही है। प्रशिक्षण प्राप्त करने वाली युवतियों से अपील है कि वे अपना सर्वश्रेष्ठ दें, राज्य सरकार आपको 100 % नियोजित करेगी। आप रोजगार या स्वरोजगार की ओर अग्रसर हो सकेंगी।

    मुख्यमंत्री ने कहा कि बात 1980 की है, जब मैं भी सेफ्टी हेलमेट लगाकर टाटा स्टील के 1200 रुपये मासिक मानदेय पर कार्य करता था। उस समय भी मैंने अपने को हुनरमंद बनाने के लिए टाटा टेक्निकल कॉलेज में  एक वर्ष के बेसिक ड्राइंग कोर्स हेतु नामांकन कराया, लेकिन किस्मत को कुछ और मंजूर था। मैं यह इसलिए बता रहा हूँ कि आज मानव संसाधन को हुनरमंद होना जरूरी है, सिर्फ डिग्री से रोजगार का सृजन पूर्णतः नहीं किया जा सकता। आप सभी प्रशिक्षण प्राप्त करने वाले अपने लक्ष्य को ऊंचा रखें और परिस्थितियों से सामंजस्य स्थापित कर कार्य करें। सफलता अवश्य मिलेगी।

    मुख्यमंत्री ने बताया कि रांची के चान्हो में नर्सिंग कॉलेज का संचालन सफलतापूर्वक हो रहा है। राज्य की बच्चियां दक्ष नर्स बन रहीं हैं। सरकार जल्द चाईबासा, सरायकेला, गुमला, साहेबगंज में नर्सिंग कॉलेज का निर्माण कार्य शुरू करेगी। इसके लिए स्वीकृति दे दी गई है। यहां से प्रशिक्षण प्राप्त नर्स को हज़ारीबाग, दुमका और पलामू में शुरू किए गए मेडिकल कॉलेज एवं अन्य 5 जिलों में खुलने वाले 500 शैया वाले अस्पताल में नियोजित किया जाएगा।

    मुख्यमंत्री ने कहा कि ग्रामीण क्षेत्र के अनुसूचित जाति, अनुसूचित जनजाति और अल्पसंख्यक वर्ग के युवाओं को हुनरमंद बनाने की दिशा में सरकार कृतसंकल्पित है। हमारे इस अमूल्य मानव संसाधन को हुनरमंद बना उनके सपनों की पंख देना है। आज खूंटी के तोरपा के 69 युवाओं को दुबई में नौकरी मिली है। यह संभव उनके हुनरमंद होने के बाद हुआ है। मुख्यमंत्री ने कहा कि ऐसा नहीं कि आप सिर्फ नौकरी करें। बल्कि आप नौकरी देने वाले भी बनें। आप प्रशिक्षण प्राप्त कर या तो नौकरी कर सकते हैं या स्वरोजगार अपना अन्य को नौकरी प्रदान कर सकते हैं। इस कार्य हेतु मुद्रा लोन दिलाने में सरकार आपको सहयोग करेगी। मुख्यमंत्री ने कहा कि आजादी के बाद पहली बार कौशल विकास मंत्रालय का गठन प्रधानमंत्री द्वारा किया गया ताकि देश के युवाओं को डिग्री देने का साथ साथ हुनरमंद बनाया जा सके।

    मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य सरकार की योजना है कि चतरा के इटखोरी में दुनिया के सबसे बड़े बौद्ध स्तूप का निर्माण किया जाए। मैं चीफ रिप्रेजेंटेटिव JICA इंडिया कतसुवो मत्तसुमोतो से आग्रह करता हूँ कि वे जापान सरकार इस कार्य में झारखण्ड सरकार की मदद करे, क्योंकि इटखोरी से जापान का गहरा रिश्ता है।

    कल्याण मंत्री डॉ लुइस मरांडी ने कहा कि यह कौशल कॉलेज में दो ट्रेड आर्ट ऑफ कुकिंग और मैन्युफैक्चरिंग में युवतियों को प्रशिक्षण दिया जाएगा। प्रेझा फाउंडेशन गुणवत्ता युक्त शिक्षकों को नियुक्त करें, ताकि झारखण्ड की बच्चियां हमेशा अव्वल रहें। कल्याण विभाग युवाओं को प्रशिक्षित करने के लिए 21 कल्याण गुरुकुल का संचालन किया जा रहा है। उन बच्चियों को शुभकामनाएं जिनका नामांकन इस कॉलेज में हुआ है। आप अपना बेहतर दें। इसमें 100% नियोजन सुनिश्चित किया गया है। कल्याण गुरुकुल के प्रशिक्षित बच्चे विदेशों में भी नौकरी कर रहें हैं। हम सब को मिल कर स्किल इंडिया, स्किल झारखण्ड का निर्माण करना है। मुख्यमंत्री के निर्देश में लगातार इस दिशा में कार्य हो रहा है।

    नगर विकास मंत्री सीपी सिंह ने कहा कि यह हर्ष का विषय है कि हर हाथ को काम कैसे मिले, इस दिशा में राज्य सरकार काम कर रही है। यह संभव हो रहा है। सरकार रोजगार प्रदान करने की दिशा में कार्य कर रही है। आज कुछ युवाओं को नौकरी से आच्छादित किया जा रहा है। आज हुनर की कद्र होती है, परंपरागत पढ़ाई के साथ अब हुनरमंद होना भी जरूरी है। युवाओं के समक्ष अवसर है अपने हुनर को निखारने का। राज्य की बेटियों को हुनरमंद बनाया जा रहा है, अब इस कॉलेज में राज्य की बेटियों को हुनरमंद बनाया जाएगा। राज्य की बेटियों के लिए मुख्यमंत्री सुकन्या योजना का लागू किया गया है। बेटियों को पढ़ाने के साथ साथ उनके विवाह तक की व्यवस्था राज्य सरकार कर रही है।

    कतसुवो मत्तसुमोटो ने कहा कि आप सभी को नए कॉलेज के उद्घाटन की शुभकामनाएं देता हूं। राज्य और देश की लगातार कौशल विकास के क्षेत्र में बढ़ते दायरे को देख कर खुशी होती है। यहां लगातार तकनीकी व अन्य क्षेत्रों में प्रशिक्षण दिया जा रहा है। जापान और इंडिया के बीच कई मामलों को लेकर समझौता हुआ है। जापान सरकार लगातार प्रयासरत है कि भारत के मानव संसाधन का उपयोग किया जा सके। सरकार हमेशा नए ट्रेड में लोगों को प्रशिक्षित करने का कार्य कर रही है। मुझे उम्मीद है यह प्रयास रंग लाएगा। प्रेझा फाउंडेशन के चेयरमैन एम मुत्थुरमन ने कहा कि बिना राज्य सरकार के सहयोग के हम कुछ नहीं कर सकते थे, लेकिन मुख्यमंत्री के नेतृत्व में हमें सहयोग मिला और राज्य के युवा कौशल विकास के जरिये राज्य के युवा हुनरमंद बन रहें हैं। लगातार झारखण्ड में बदलाव परिलक्षित हो रहा है। इस अवसर पर मुख्यमंत्री ने सांकेतिक तौर पर कल्याण गुरुकुल से प्रशिक्षित शिलामनी कुमारी, अनिता कुमारी, सतीश उरांव, मंगल बेसरा व विनोद मुर्मू को नियोजन पत्र सौंपा।

    रांची के चान्हो में 290 युवतियां कौशल विकास के तहत नर्सिंग सिम्युलेटर का प्रशिक्षण ले रहीं हैं। यह प्रशिक्षण के लिए 100 % बैंक लोन द्वारा वित्त पोषित किया जाता है। कौशल विकास का मुख्य लक्ष्य पिछड़ी जाति, जनजाति और नक्सल प्रभावित क्षेत्र के ड्राप आउट युवाओं को तकनीकी प्रशिक्षण के उपरांत रोजगार प्रदान करना है। कल्याण विभाग के अंतर्गत प्रेझा फाउंडेशन के संयुक्त तत्वावधान में कल्याण गुरुकुल के माध्यम में 9027 उम्मीदवारों को प्रशिक्षित कर औसतन 12 हजार रुपये मानदेय पर नियोजन किया जा चुका है। इसमें कार्यरत लगभग 70% उम्मीदवार अनुसूचित जनजाति और 7% अनुसूचित जाति समुदाय से आते हैं। इस वित्तीय वर्ष तक कौशल कॉलेज 7 होंगे- रांची में 2, सिमडेगा, साहिबगंज, गुमला, इटकी, सरायकेला खरसावां तथा अगले वित्तीय वर्ष में लातेहार, दुमका, जामताड़ा में नर्सिंग कॉलेज कौशल कॉलेज शुरू करने की योजना है।

    इस अवसर पर राज्य सरकार के मंत्री सीपी सिंह, मंत्री डॉ लुइस मरांडी, सांसद रामटहल चौधरी, कांके विधायक जीतुचरण राम, विकास आयुक्त डी के तिवारी, सचिव राहुल शर्मा, सचिव हिमानी पांडे, जेआईसीए (JICA) के चीफ रिप्रेजेंटेटिव कतसुवो मत्तसुमोटो, (PreJHA) फाउंडेशन के चेयरमैन एम मुत्थुरामन, आईएफसीए के प्रेसिडेंट मंजीत सिंह गिल, HDFC बैंक की प्रमुख सुश्री नुसरत पठान, संदीप कुमार व अन्य उपस्थित रहे।