नाइजीरिया से झारखण्ड भ्रमण पर आए प्रतिनिधिमंडल ने की मुख्यमंत्री से मुलाकात


    नाइजीरिया से भारत भ्रमण पर आए 36 सदस्यीय प्रतिनिधिमंडल ने झारखण्ड मंत्रालय में मुख्यमंत्री रघुवर दास से मुलाकात की और राज्य में चल रही विभिन्न योजनाओं पर चर्चा की। इस मुलाकात के दौरान मुख्यमंत्री रघुवर दास ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सोच को झारखंड सरकार साकार कर रही है। पूरे देश में स्वच्छ भारत मिशन कार्यक्रम को लागू किया है। राज्य सरकार, केंद्र सरकार के साथ कदम से कदम मिलाकर स्वच्छ भारत मिशन के तहत संपूर्ण झारखण्ड को खुले में शौच मुक्त करने का कार्य किया है। राज्य की बहू बेटियां सम्मान की जिंदगी जिए इसके लिए राज्य सरकार ने मिशन मोड में हर घर में शौचालय बनाने का कार्य किया है। वर्ष 2014 से पहले झारखण्ड मात्र 18% खुले में शौच मुक्त राज्य था परंतु वर्तमान सरकार गठन के बाद पिछले 4 वर्ष में झारखण्ड राज्य को शत प्रतिशत खुले में शौच मुक्त बनने का गौरव प्राप्त हुआ है। राज्य को पूर्ण ओडीएफ करने में झारखण्ड की मेहनतकश एवं ईमानदार महिलाओं का महत्वपूर्ण योगदान रहा है। राज्य की रानी मिस्त्रीयां, जल सहिया एवं महिला स्वयं सहायता समूहों के अथक प्रयास की वजह से झारखंड ओडीएफ हो चुका है।

    महिला सशक्तिकरण के लिए सरकार प्रतिबद्ध

    मुख्यमंत्री ने कहा कि सरकार महिला सशक्तिकरण को लेकर गंभीर है और इस दिशा में कई सकारात्मक कार्य किए गए हैं। राज्य सरकार ने झारखण्ड में मुख्यमंत्री सुकन्या योजना प्रारंभ की है। इस योजना का मुख्य उद्देश्य यही है कि बेटियों के जन्म के बाद से ही उनके पढ़ाई लिखाई में सरकार सहारा बन सके। उन्होंने कहा कि बेटियों के जन्म लेने पर मां के बैंक खाते में 5000 की सहायता राशि उपलब्ध कराई जा रही है। उसी प्रकार पहली कक्षा में नामांकन के बाद ₹5000 की सहायता राशि दी जा रही है। पांचवी कक्षा, आठवीं कक्षा, दसवीं कक्षा एवं 12वीं कक्षा उत्तीर्ण होने पर 5-5 हजार की सहायता राशि सरकार उपलब्ध कराएगी। बच्चियों के अट्ठारह वर्ष पूर्ण होने पर 10 हजार की सहायता राशि तथा अगर उनकी शादी होती है तब राज्य सरकार ₹30 हजार की अनुदान राशि बच्चियों के खाते में सीधे डीबीटी के माध्यम से देगी। इस योजना का लाभ परिवार में दो बच्चियों को मिल सकेगा। मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य में सुदूरवर्ती क्षेत्रों में रहने वाली महिलाओं में शिक्षा की कमी होने के कारण बाल विवाह जैसी चुनौतियां व्याप्त हैं। ग्रामीण क्षेत्रों में महिलाओं को जागरुक करके ही इन चुनौतियों को समाप्त किया जा सकेगा। राज्य सरकार महिलाओं के सर्वांगीण विकास के लिए प्रतिबद्धता के साथ कार्य कर रही है। मुख्यमंत्री ने प्रतिनिधिमंडल को बताया कि राज्य में महिलाएं संपत्ति का मालकिन बन सके इसलिए महिलाओं के नाम पर एक रुपए में 50 लाख तक की संपत्ति का रजिस्ट्री की योजना शुरु की गई है। जिसका लाभ अभी तक 1 लाख 20 हजार से ज्यादा महिलाएं ले चुकी हैं। महिलाएं अब सशक्त और आत्मनिर्भर हुई हैं।

    2022 तक किसानों की आय दोगुना करेंगे

    मुख्यमंत्री श्री रघुवर दास ने कहा कि राज्य में मुख्यमंत्री कृषि आशीर्वाद योजना का शुभारंभ किया गया है। इस योजना के तहत राज्य के 22 लाख से भी अधिक किसानों को कृषि कार्य के लिए सालाना प्रति एकड़ ₹5000 की अनुदान राशि दी जा रही है। इस योजना का लाभ 5 एकड़ तक के भूमि धारक किसान ले सकेंगे। बीज खाद के लिए किसानों को किसी से ऋण लेने की आवश्यकता नहीं पड़ेगी। प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी का सपना है कि वर्ष 2022 तक किसानों कि आय को दोगुना करना है। राज्य सरकार द्वारा गांव गरीब और किसान के लिए कई विभिन्न जनकल्याणकारी योजनाओं को भी प्रतिबद्धता के साथ धरातल पर उतारने का कार्य किया गया है।

    झारखण्ड में हो रहा विकास प्रभावित करता है

    नाइजीरिया से आए प्रतिनिधिमंडल ने मुख्यमंत्री के समक्ष झारखण्ड भ्रमण के अनुभवों को साझा किया। प्रतिनिधि मंडल द्वारा मुख्यमंत्री को जानकारी दी गई कि 36 सदस्य टीम को भारत भ्रमण के दौरान झारखण्ड आने का सौभाग्य प्राप्त हुआ। प्रतिनिधिमंडल ने कहा कि झारखण्ड सरकार द्वारा राज्य में बहुत ही सराहनीय कार्य हो रहे हैं। प्रतिनिधिमंडल राज्य के हजारीबाग जिले का भ्रमण कर चुकी है। प्रतिनिधिमंडल ने स्वच्छ भारत मिशन के तहत हुए कार्यों की जमकर सराहना की। प्रतिनिधिमंडल के लोगों ने मुख्यमंत्री से कहा कि राज्य में रानी मिस्त्रीयों द्वारा शौचालय निर्माण कार्य की बारीकियों को प्रतिनिधि मंडल के सदस्यों ने जानने और सीखने का कार्य किया है। प्रतिनिधिमंडल ने ओडीएफ के क्षेत्र में हुए कार्यों की जमकर सराहना की।

    झारखण्ड के लोग सरल और ईमानदार हैं

    प्रतिनिधिमंडल ने मुख्यमंत्री से कहा कि झारखण्ड के लोग बहुत ही सरल स्वभाव और ईमानदार हैं। झारखण्ड की भौगोलिक स्थितियां और नाइजीरिया की भौगोलिक स्थितियां काफी मिलती-जुलती हैं। राज्य सरकार ने महिला के सर्वांगीण विकास के लिए जो कार्य किया है। इसी तरह के कार्यों का संचालन नाइजीरिया में भी किया जा सकता है। झारखण्ड में ओडीएफ के क्षेत्र में हुए कार्य अनुकरणीय है। नाइजीरिया के विभिन्न राज्यों से आए प्रतिनिधिमंडल में 3 सदस्य भारत सरकार की ओर से शामिल थे। प्रतिनिधिमंडल के साथ यूनिसेफ, वाटरशेड, डब्लूएसएससी तथा वर्ल्ड बैंक के प्रतिनिधि भी उपस्थित थे। प्रतिनिधिमंडल का झारखण्ड में पारंपारिक स्वागत भी किया गया है। इस अवसर पर पेयजल एवं स्वच्छता सचिव आराधना पटनायक ने मुख्यमंत्री के समक्ष यह जानकारी दी कि नाइजीरिया से आए प्रतिनिधिमंडल हजारीबाग जिले का भ्रमण किया है तथा यहां की कार्य संस्कृति के विषय में जानकारी प्राप्त की है। प्रतिनिधिमंडल के साथ इससे पहले भी समन्वय स्थापित कर पेयजल एवं स्वच्छता विभाग के साथ बैठक आयोजित की गई है। प्रतिनिधिमंडल का नेतृत्व मुख्य रूप से नाइजीरिया सरकार के डायरेक्टर, वाटर सप्लाई बेनसन एजीसीगिरि कर रहे थे।