“पिछले 4 साल में झारखण्ड की पहचान विश्व पटल पर एक मजबूत राज्य की बनी है”


    झारखण्‍ड मंत्रालय में मुख्यमंत्री रघुवर दास से इटली के काउंसलेट जनरल दामियानो फ्रैंकोविच (Damiano Francovigh) तथा इंडो-इटालियन मिलान हब के प्रेसिडेंट प्रोफेसर अल्बर्टो कविच्चईओलो (Prof. Alberto Cavicchiolo) एवं अन्य निवेशकों ने सोमवार को मुलाकात की। इस दौरान इन लोगों ने झारखण्‍ड में सोलर ऊर्जा, स्टील तथा अन्य मेटल, वाटर ट्रीटमेंट, फूड प्रोसेसिंग, माइक्रो इरिगेशन के क्षेत्र में निवेश करने की इच्छा जतायी। वहीं, मुख्यमंत्री रघुवर दास ने कहा कि झारखण्‍ड में निवेश के लिए अनुकूल माहौल है। उद्योग, कृषि और रोजगार पर ग्लोबल समिट होने से और पिछले 4 साल में राज्य की पहचान विश्व पटल पर मजबूत राज्य की बनी है। उद्योग के लिए भूमि, विद्युत तथा अन्य सुविधाएं सिंगल विंडो के माध्यम से दी जा रही हैं। उद्योग तथा व्यापार से जुड़ी झारखण्‍ड की नीतियां एवं श्रम संबंधी कानून सकारात्मक है। मुख्यमंत्री ने कहा कि निवेश के लिए आगे आएं। झारखण्‍ड सरकार इसके लिए हर तरह की सुविधा प्रदान करेगी।

    मुख्यमंत्री ने उद्योग सचिव को यह भी निर्देश दिया कि निवेशकों ने जिन क्षेत्रों में निवेश करने की इच्छा जतायी है उनपर विस्तृत रूप से चर्चा कर लें तथा सरकार की ओर से इन्हें आश्वस्त करें कि हर संभव सहयोग इन्हें दिया जाएगा।

    इटली के काउंसलेट जनरल दामियानो फ्रैंकोविच ने कहा कि भारत में झारखण्‍ड निवेशकों के लिए सबसे प्रमुख स्थान हो सकता है। इंडो-इटालियन मिलान हब के प्रेसिडेंट प्रोफेसर अल्बर्टो कविच्चईओलो ने कहा कि इटली और भारत द्विपक्षीय संबंध और व्यापार के क्षेत्र में आज बहुत बेहतर स्थिति में है। गुजरात में विंड एनर्जी के क्षेत्र में इटली ने निवेश किया है। झारखण्ड में भी निवेश और तकनीकी ज्ञान की परस्पर साझेदारी के क्षेत्र में कार्य के लिये हम उत्सुक हैं।

    बैठक में उद्योग सचिव श्री के रवि कुमार, ऊर्जा सचिव श्रीमती वंदना डाडेल, झारखण्ड बिजली वितरण निगम लिमिटेड के एमडी श्री राहुल पुरवार, जेरेडा के निदेशक श्री निरंजन कुमार तथा निवेशकों में यूनि‍सेवेन इंजीनियरिंग एंड इंफ्रास्ट्रक्चर प्रा. लिमिटेड के निदेशक श्री कमल प्रकाश, ईको इंडिया के वाइस प्रेसिडेंट श्री अनूप कतरियार, डैनिएली इंडिया के डीजीएम श्री सौगत दास तथा अन्य निवेशक उपस्थित थे।