सरकारी भवनों के निर्माण में गुणवत्ता का पूरा ख्याल रखें, भवन निर्माण विभाग की समीक्षा के दौरान मुख्यमंत्री श्री हेमन्त सोरेन ने दिए निर्देश


    सरकारी भवनों के निर्माण में गुणवत्ता का पूरा ख्याल रखा जाय । इन भवनों का  निर्माण निर्धारित समय सीमा के अंदर हो । मुख्यमंत्री श्री हेमंत सोरेन ने आज भवन निर्माण विभाग की समीक्षा बैठक में अधिकारियों को ये निर्देश दिए । उन्होंने कहा कि उपयोगिता  को ध्यान में रखते हुए सरकारी भवनों का निर्माण किया जाना चाहिए । इन  भवनों का बेहतर सदुपयोग  हो , इसका ध्यान  रखें । इस मौके पर विभाग द्वारा बनाए जा रहे सरकारी भवनों की जानकारी से मुख्यमंत्री को अवगत कराया गया ।

     मुख्यमंत्री ने कहा कि कि जिन जमीनों पर विभाग द्वारा भवनों का निर्माण  कराया जा है ,उसकी  पूरी जानकारी विभाग उपलब्ध कराए ।उन्होंने कहा कि  जिन जमीनों पर नए  भवन बनाए जाने हैं ,उसके अधिग्रहण की वस्तु स्थिति की जानकारी दे ।इसके साथ उस जमीन का अतिक्रमण नहीं हो इसका भी पूरा ध्यान रखा जाए ।

     मुख्यमंत्री ने कहा कि भवन निर्माण विभाग द्वारा  विभिन्न विभागों के लिए कई भवन बनाए जा रहे हैं ।उन्होंने कहा कि हर विभाग के लिए बनाए जा रहे भवन  की विस्तृत जानकारी उपलब्ध कराएं । इसमें  बनाए जाने वाले कुल भवनों की संख्या, हैंडओवर हो चुके भवनों की संख्या, पूर्ण हो चुके पर हैंडोवर नहीं होने वाले भवनों की संख्या, निर्माणाधीन और लंबित  भवन योजनाओं की संख्या की जानकारी हो ।

     मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य में बनाए जाने वाले सभी सरकारी भवनों की अलग पहचान होनी चाहिए । इसमें इंटीरियर डिजाइनिंग, फर्नीचर और  रंगों के चयन आदि में विशेष ध्यान रखा जाए  । इन भवनों को देखने से ऐसा लगे कि यह झारखंड सरकार की बिल्डिंग है ।

     मुख्यमंत्री ने कहा कि कई जिलों में नए समाहरणालय और अनुमंगल कार्यालय आदि का निर्माण हो रहा है । ऐसे में पुराने भवनों  का सदुपयोग होना भी जरूरी है ।उन्होंने कहा कि समाहरणालय की पुरानी भवन में वैसे कार्यालयों को शिफ्ट किया जाए जो किराए में चल रहे हैं ।

    विभाग द्वारा मुख्यमंत्री को इस अवगत कराया गया कि रांची सदर अस्पताल में  बचे हुए  भवन का निर्माण कार्य तेजी से चल रहा है और यह अगले साल 31 जनवरी तक बनकर तैयार हो जाएगा ।

     भवन निर्माण विभाग द्वारा हजारीबाग में समाहरणालय का निर्माण कार्य पूरा हो चुका है । जबकि गिरिडीह ,गोड्डा और  धनबाद में निर्माण कार्य प्रगति पर है । इसके अलावा नई दिल्ली में नए झारखंड भवन और दुमका में कन्वेंशन सेंटर का निर्माण कराया जा रहा है  । इसके अलावा बोकारो और गढ़वा में नए  समाहरणालय भवन  तथा सिमरिया सरिया बगोदर और  जामताड़ा में अनुमंडल कार्यालय बनाने का प्रस्ताव है ।

     रांची के रातू रोड में न्यू ऑफिसर्स फ्लैट, सरकारी अधिकारियों एवं कर्मियों के लिए मल्टीस्टोरी बिल्डिंग तथा डोरंडा में अधिकारियों के लिए फ्लैट बनाने की  योजना है ।  डोरंडा में 3 ब्लॉक में कूल 244 फ्लैट बनाए जाएंगे , वहीं रातू रोड स्थित मल्टी स्टोरी बिल्डिंग में 82 फ्लैट होंगे ।

     झारखंड भवन निर्माण निगम द्वारा भवन निर्माण की 859 योजनाओं का क्रियान्वयन किया जा रहा है । इसमें 412 भवन  हैंड ओवर किए जा चुके हैं वही 70  भवन का निर्माण कार्य पूरा हो चुका  है, लेकिन हैंडोवर नहीं हुआ है  । इसके अलावा 320  भवनों का निर्माण कार्य प्रगति पर है ।

     भवन निर्माण विभाग द्वारा स्वास्थ विभाग के लिए 423,,  स्कूली शिक्षा और साक्षरता विभाग के लिए 169, उच्च तकनीकी शिक्षा एवं कौशल विकास विभाग के लिए 157, पर्यटन के लिए 26, श्रम विभाग के लिए 12,  अनुसूचित जाति अनुसूचित जनजाति एवं समाज कल्याण विभाग के लिए 45 तथा वन विभाग  के लिए भवन बनाए जा रहे हैं ।

     मुख्य सचिव श्री सुखदेव सिंह, विकास आयुक्त श्री केके खंडेलवाल,  मुख्यमंत्री के प्रधान सचिव श्री राजीव अरुण एक्का , भवन निर्माण विभाग के  सचिव श्री सुनील कुमार, अभियंता प्रमुख श्री अरविंद कुमार सिंह और मुख्य अभियंता श्री ललित कुमार टिबरीवाल  समीक्षा बैठक में उपस्थित थे ।

    Recent news