मुख्यमंत्री हेमन्त सोरेन ने शहीद चौक स्थित शहीद स्थल सह स्मारक पर आयोजित स्वतंत्रता दिवस समारोह में झंडोत्तोलन किया


    देश आज 74वां स्वतंत्रता दिवस समारोह मना रहा है. इस अवसर पर शहीद स्थल-सह-स्मारक पर मुख्यमंत्री श्री हेमन्त सोरेन ने झंडोत्तोलन किया और फिर शहीदों की तस्वीर पर माल्यापर्ण कर श्रद्धासुमन अर्पित की. मुख्यमंत्री ने देश की आजादी में अपना सर्वस्व न्योछावर करने वाले शहीदों को नमन करते हुए कहा कि हमें उनके जीवन और आदर्शों से प्रेरणा लेना चाहिए. देश कभी इन वीरों के बलिदान को भूल नहीं सकता है. 

     

    मुख्यमंत्री ने कहा कि झारखंड क्रांतिवीरों की भूमि रही है. आजादी की लड़ाई में यहां के वीरों ने अदम्य साहस दिखाया था. उनके संघर्ष ने ब्रिटिश हुकुमूत को झुकने पर मजबूर कर दिया था. वीर बुधु भगत, शहीद ठाकुर विश्वनाथ शाहदेव , भगवान बिरसा मुंडा, अमर शहीद सिद्दो-कान्हू, नीलांबर-पीताबंर, शेख भिखारी जैसे कई वीरों का यह जन्मस्थल रहा है. इन क्रांतिवीरों को नमन. मुख्यमंत्री ने कहा कि यहां के क्रांतिवीरों ने आजादी के पहले और बाद में अपने हक और अधिकार की लड़ाई लड़ते आए हैं. इनकी संघर्षगाथा इतिहास के पन्नों में दर्ज है.

     

    मुख्यमंत्री ने कहा कि आजादी की लड़ाई में ऐसे कई वीर-शहीद भी हैं, जिनसे हम अपरिचित हैं. जिनकी जानकारी इतिहास के पन्नों में नही है. ऐसे वीरों-शहीदों के चरणों में भी श्रद्धा सुमन अर्पित करता हूं. मुख्यमंत्री ने यह भी कहा कि लड़ाई छोटी हो या बड़ी, इस देश के लिए कई ने अपनी कुर्बानी दी है. अपने देश-राज्य के लिए प्राणों की आहुति देना कोई साधारण बात नहीं है.

     

    मुख्यमंत्री ने कहा कि हम सभी को अपने क्रांतिवीरों को आदर्श मानते हुए देश-समाज की मजबूती, विकास, सुख-समृद्धि-शांति के लिए तन-मन से योगदान देना चाहिए. भारत दुनिया का सबसे मजबूत लोकतंत्र है और सदियों तक इसका वजूद कायम रहेगा. हमें अपने मजबूत लोकतंत्र पर गर्व है.

    Recent news