संथाल परगना के हर घर तक पहुंच रही हैं विकास की योजनाएं: रघुवर दास


    दुमका के गोपीकांदर प्रखंड के प्रोजेक्ट बालिका उच्च विद्यालय परिसर में मुख्यमंत्री रघुवर दास ने जनचौपाल लगाकर लोगों की समस्याएं सुनीं। इस दौरान उन्होंने लोगों से कहा कि जनता और शासन के बीच सीधा संवाद रहे। आपकी हर समस्याओं का तुरंत समाधान हो, आप भी अपना जीवन खुशहाली के साथ बितायें, यही इस जन चौपाल कार्यक्रम का मुख्य उद्देश्य है। आपके क्षेत्र की जो भी समस्याएं हैं, उसे हर हाल में दूर किया जाएगा। सरकार ने पिछले पांच वर्षों में विकास के कई काम किए हैं। गांव में बुनियादी सुविधाएं पहुंची हैं और विभिन्न योजनाओं के माध्यम से गरीब परिवारों को सशक्त  बना रहे हैं। 5 वर्षों में सरकार का प्रयास रहा है कि संथाल परगना का समग्र विकास हो सके।

    संवाद के क्रम में स्थानीय महिला सरोजनी हेम्ब्रम ने मुख्यमंत्री रघुवर दास से कहा संथाल परगना और हमारे हालात बदल गए हैं। बहुत कुछ बदलाव आया है। गांव-गांव तक सुविधाएं पहुंची हैं। कई योजना का लाभ भी हमें मिल रहा है, लेकिन पानी की थोड़ी समस्या अब भी है। मुख्यमंत्री ने कहा कि 14वें वित्त आयोग की राशि से सौर ऊर्जा से गांव में जलमीनार बन रहे हैं। इससे पेयजल की समस्या दूर होगी । इस दौरान मुख्यमंत्री ने मौके पर बीडीओ को निर्देश दिया कि 20 अक्टूबर तक पेयजल की समस्या को दूर करें।गांव-गांव में इस योजना से पेयजल की समस्या को दूर करें। मुख्यमंत्री ने कहा कि 14वें वित्त आयोग की राशि से गांव गांव में स्ट्रीट लाइट, पेवर ब्लॉक की सड़क तथा सौर ऊर्जा से पेयजल की योजना पर काम हो रहा है। अब विकास अब होकर रहेगा।

    जनचौपाल के दौरान लीला सोरेन, ललित किस्कू, प्रकाश मुर्मू और भी कई लोगों ने अपनी बात रखी। प्रधानमंत्री आवास योजना से लोगों के घर बन रहे हैं। इससे लोगों की अपेक्षाएं भी बढ़ी हैं। इस दौरान मुख्यमंत्री ने आवास से संबंधित समस्या के लिए निर्देश दिया कि इस बुधवार 25 सितम्बर को गांव में कैम्प लगाया जाय और हर योग्य लाभुक को आवास स्वीकृत किया जाए। कोई भी बेघर नहीं रहे, यह सरकार की सोच है। केंद्र सरकार तथा राज्य सरकार गरीबों के दर्द को समझती है।  मुख्यमंत्री रघुवर दास ने कहा कि 2022 तक झारखंड हर बेघरों के पास अपना घर होगा।

    मुख्यमंत्री ने कहा कि अब हमारी माताओं बहनों को धुआं में खाना नहीं बनाना पड़ता, उन्हें लकड़ी की तलाश में जंगल नहीं भटकना पड़ता है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना के माध्यम से हर गरीब के घर में एलपीजी कनेक्शन पहुंचाने का काम किया है। राज्य सरकार ने माननीय प्रधानमंत्री के सपनों को साकार करने के लिए एलपीजी कनेक्शन के साथ मुफ्त गैस चूल्हा तथा प्रथम और द्वितीय रिफिल मुफ्त देने का कार्य किया है। झारखंड के 40 लाख गरीब परिवारों को एलपीजी कनेक्शन दिया गया है। हमारी आदिवासी बहने भी अब गैस चूल्हे पर खाना बनाती हैं। अब हमारी माताओं बहनों को शौच के लिए अंधेरे का इंतजार नहीं करना पड़ता। प्रधानमंत्री ने हमारी माताओं बहनों की दर्द को समझा है तथा हर घर शौचालय बनाने का संकल्प लिया है। सरकार ने महिलाओं को सम्मान देने का कार्य किया है। राज्य सरकार ने 50 हज़ार महिलाओं को रानी मिस्त्री की ट्रेनिंग देकर हर घर शौचालय बनाने का कार्य किया है। मुख्यमंत्री ने कहा कि पिछले 5 साल में 2 लाख 17 हजार से अधिक सखी मंडलों के माध्यम से 28 लाख से अधिक महिलाओं को स्वरोजगार से जोड़ा गया।

    मुख्यमंत्री ने कहा कि झारखंड में 68 लाख परिवार हैं। लेकिन, सिर्फ 38 लाख घरों में ही बिजली थी। राज्य सरकार ने पिछले 5 वर्षों में 30 लाख घरों में बिजली पहुंचाने का कार्य किया है। जहां बिजली की तारें नहीं पहुंच सकती, वैसी जगह पर सरकार ने सोलर के माध्यम से बिजली पहुंचाई है। सरकार की नीयत विकास के प्रति बिल्कुल साफ है सरकार राज्य के विकास के लिए कृत संकल्पित है।

    मुख्यमंत्री ने कहा कि कुछ लोग यह अफवाह फैला रहे हैं कि सरकार आप की जमीन को छीन लेगी, लेकिन मैं विश्वास दिलाना चाहता हूं कि हमारे आदिवासी भाइयों बहनों की जमीन को कोई नहीं छीन सकता। मुख्यमंत्री रघुवर दास ने कहा कि जागरूक बने सरकार के विभिन्न कल्याणकारी योजनाओं का लाभ लें।

    मुख्यमंत्री ने उपस्थित ग्रामीणों से कहा कि हम सभी को मिलकर झारखंड को कुपोषण मुक्त बनाना है । आपने जो गरीबी देखी है, आपका बच्चा उस गरीबी को नहीं देख सके। इस दिशा में सभी को मिलकर कार्य करने की जरूरत है। मुख्यमंत्री ने हर पढ़े-लिखे नौजवान से अपील की कि अपने अपने गांव में जागरूकता अभियान चलाकर सरकार के विभिन्न कल्याणकारी योजनाओं की जानकारी दें , ताकि सभी का विकास हो सके। सभी सरकार की कल्याणकारी योजनाओं का लाभ ले सकें। उन्होंने लोगों से कहा कि अगर योजना का लाभ लेने में किसी प्रकार की परेशानी हो रही हो मुख्यमंत्री जनसंवाद के टोल फ्री नंबर 181 पर कॉल कर इसकी सूचना दें । आपकी समस्याओं का त्वरित समाधान किया जाएगा।

    इस अवसर पर विभिन्न योजनाओं के तहत परिसंपत्तियों का भी वितरण लाभुकों के बीच हुआ।जन चौपाल में समाज कल्याण मंत्री डॉ लुईस मरांडी, दुमका के सांसद सुनील सोरेन, उपायुक्त राजेश्वरी बी, पुलिस अधीक्षक वाईएस रमेश, उप विकास आयुक्त वरुण रंजन, स्थानीय मुखिया और बड़ी संख्या में ग्रामीण उपस्थित रहे।