प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी देश की पहली पेपरलेस विधानसभा का करेंगे उद्घाटन


    राज्य गठन के 19 वर्ष बाद झारखण्ड को अपना विधानसभा भवन मिलने जा रहा है।  12 जून 2015 को झारखण्ड की सबसे बड़ी पंचायत यानि विधानसभा भवन की आधारशिला राज्य के मुख्यमंत्री रघुवर दास ने रखी थी। अब उसका उद्घाटन करने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी 12 सितंबर 2019 को झारखण्ड आ रहे हैं। मुख्यमंत्री ने कहा कि अब झारखण्ड के पास अपना विधानसभा भवन होगा। लोकतंत्र की सबसे बड़ी पंचायत का जो सपना 19 वर्ष से हम सब झारखण्ड वासियों ने देखा था, वह पूरा होने वाला है। साथ ही, देश का पहला पेपरलेस विधानसभा होने का गौरव भी झारखण्ड की झोली में आएगा।

    झारखण्डी कला संस्कृति से ओतप्रोत है भवन

    धुर्वा के कुटे में 39 एकड़ भूमि पर, 465 करोड की लागत से, 57,220 स्क्वायर मीटर क्षेत्र, 37 मीटर ऊंचा गुम्बद और झारखण्डी कला संस्कृति की झलक खुद में समेटे है झारखण्ड का नवनिर्मित विधानसभा भवन। भवन के मुख्य गुम्बद की छत पर आदिवासी समुदाय की मूल अवधारणा यानि जल, जंगल और जमीन को स्थानीय सोहराय चित्रकारी के माध्यम से प्रदर्शित किया गया है। दो भागों में विभक्त विधानसभा में 162 सदस्यों के बैठने की व्यवस्था की गई है। भवन में प्रेस दीर्घा, पदाधिकारी दीर्घा, दर्शक दीर्घा, अतिविशिष्ट आगंतुकों के बैठने के लिए पर्याप्त व्यवस्था की गई है। 22 मंत्री कक्ष, 17 विधानसभा समिति कक्ष, मुख्य सचेतक, विधानसभा के पदाधिकारियों, कर्मचारियों के लिए माकूल प्रबंध किए गए हैं।

    विश्वस्तरीय सुविधाओं से युक्त है विधानसभा का नया भवन

    यह भवन विश्वस्तरीय सुविधाओं से युक्त हरित भवन की अवधारणा को पूर्ण करता है। मुख्य भवन में 600 KWP विद्युत की आपूर्ति सौर ऊर्जा के माध्यम से प्राप्त की जायेगी। यह आपूर्ति आंतरिक एवं बाहय आवश्यक्ताओं की 15 प्रतिशत की प्रतिपूर्ति करेगा। भवन में वाटर ट्रीटमेंट प्लांट लगाया गया है। वर्षा जल संचयन हेतु भूमि गत 6 अदद रिचार्ज पिट लगाया गया है।