कोई छीन नहीं सकता आपकी ज़मीन, गुमराह करने वालों से रहें सावधान-रघुवर दास


    दुमका जिले के रानेश्वर प्रखंड के बांसबोना गांव में मुख्यमंत्री रघुवर दास ने जनचौपाल के माध्यम से ग्रामीणों से संवाद किया। इस अवसर पर मुख्यमंत्री ने सखी मंडल को क्रेडिट लिंकेज के तहत 14 करोड़ 69 लाख, रिवॉल्विंग फण्ड के तहत 24 लाख 75 हजार की राशि सौंपी। इसके अलावा मुख्यमंत्री ने भूमि संरक्षण विभाग द्वारा प्रदत्त पंप सेट, आयुष्मान भारत के तहत गोल्डन कार्ड, उज्ज्वला योजना के तहत गैस कनेक्शन, मिनी राइस मिल, प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत लोगों को घरों की चाभी और मृदा स्वास्थ्य कार्ड से लाभुकों को लाभान्वित किया। लोगों से संवाद के क्रम में उन्होंने कहा कि आपने एक मजबूत सरकार दी है। आपकी सरकार ने सिर्फ 4 वर्षों में झारखण्ड को विकास के माध्यम से पूरे देश में एक नयी पहचान दी है। पूर्व में सरकार और शासन के बीच दूरी होने के कारण राज्य की जनता को परेशानी का सामना करना पड़ता था। अब सरकार हर कदम पर आपकी राय चाहती है। आपके हर सुझाव का सरकार स्वागत करेगी। शासन और जनता के बीच की दूरी को मिटाने के लिए ही आज इस कार्यक्रम का आयोजन किया गया है।

    मुख्यमंत्री ने कहा कि साल 2000 में झारखण्ड निश्चित रूप से एक अलग राज्य के रूप में देश के मानचित्र पर दिखने लगा था। 14 साल तक राजनीतिक अस्थिरता के कारण झारखण्ड में विकास लोगों को दिखाई नहीं दिया है। 2014 में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की आवाज पर आप सभी ने एक स्थिर और मजबूत सरकार चुनने का कार्य किया है। आपने एक मजबूत सरकार बनाया जिसके परिणाम से केवल 4 वर्षों में ही लगभग सभी क्षेत्रों में विकास के नए कीर्तिमान स्थापित करने का काम किया गया है। आज झारखण्ड की पहचान पूरे देश में एक उत्कृष्ट राज्य के रूप में हो रही है। उन्होंने कहा कि वर्ल्ड बैंक तथा अन्य कई सर्वेक्षणों में भी झारखण्ड टॉप टेन राज्यों की सूची में उभरकर सामने आया है। झारखण्ड की सवा तीन करोड़ जनता ना सिर्फ विकास, बल्कि तेजी से विकास चाहती है।

    मुख्यमंत्री रघुवर दास ने कहा कि सरकार सुदूर क्षेत्रों के ग्रामीण जनता के साथ सीधा संवाद कर उनके सुझाव पर भी काम कर रही है। सभी लोगों का सुझाव महत्वपूर्ण है। जनता ही लोकतंत्र में मालिक होती है। मालिक के समक्ष आपका सेवक हाजिर है। सरकार आपकी बनायी योजनाओं पर कार्य कर रही है। अभी भी राज्य में कई और विकास के कार्य किये जाने हैं। आप सभी का सुझाव और सहयोग राज्य के विकास के लिए महत्वपूर्ण है।

    मुख्यमंत्री ने कहा कि जल सहिया, रानी मिस्त्री के सहयोग से हमने शत-प्रतिशत घरों में शौचालय बनाने का कार्य किया है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के स्वच्छ भारत के सपने को सरकार ने प्राथमिकता के आधार पर कार्य किया है। 67 साल की आजादी के बाद देश में पहली बार प्रधानमंत्री ने महिलाओं के दर्द को समझा और उन्हें सम्मान देने का काम किया है। पूरे देश में एक अभियान के तहत शौचालय बनाये गये हैं। प्रधानमंत्री के सोच की वजह से आज उज्जवला योजना के तहत गैस कनेक्शन दिया जा रहा है, ताकि महिलाओं को धुएं से मुक्ति मिल सके। जिसने गरीबी देखी है, वही गरीब के दर्द को भली-भांति समझ सकता है। वर्तमान सरकार गरीबों की चिंता करने वाली सरकार है।

    रघुवर दास ने कहा कि प्रधानमंत्री ने ‘बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ’ का नारा दिया है। एक जनवरी 2019 से राज्य में मुख्यमंत्री सुकन्या योजना को लागू किया जाएगा, जिसका कार्यान्वयन बहुत सरल है। सीधे बेटी के जन्म पर मां के खाते में प्रोत्साहन राशि जमा होगी। पहली, पांचवीं, नौवीं और ग्यारहवीं कक्षा में भी प्रोत्साहन राशि तथा फिर अविवाहित रहने पर भी प्रोत्साहन राशि सीधे खाते में दी जायेगी। राज्य में महिलाओं द्वारा 50 लाख रुपए तक की सम्पत्ति खरीदे जाने पर एक रुपए में रजिस्ट्री होति है। अब तक एक लाख बारह हजार महिलाओं ने इसका लाभ उठाया है। इससे न केवल समाज में, बल्कि परिवार में भी नारी का महत्व इससे बढ़ा है। नारी शक्ति को आर्थिक रूप से सशक्त करना सरकार की जिम्मेदारी है। मुख्यमंत्री ने कहा कि बेटियों को स्वावलंबी बनाने के लिए नर्सिंग का प्रशिक्षण दिया जा रहा है। कौशल विकास के तहत उन्हें हुनरमंद बनाकर रोजगार से जोड़ा जा रहा है।

    किसानों की तारीफ करते हुए उन्होंने कहा कि झारखण्ड़ के किसानों की मेहनत की जितनी प्रशंसा की जाए कम है। यहाँ किसानों ने कृषि के क्षेत्र में एक लंबी छलांग लगायी है। गुजरात के बाद झारखण्ड़ देश का दूसरा राज्य है, जहां ग्लोबल एग्रीकल्चर एंड फूड समिट का आयोजन किया गया। जिसमें दूसरे देशों के भी प्रतिनिधि भी शामिल हुए। झारखण्ड़ के लोगों की क्षमता को दुनिया भर में ले जाने की जरूरत है। झारखण्ड़ को कृषि आधारित अर्थव्यवस्था ही मजबूत कर सकती है। झारखण्ड को समृद्ध बनाने के लिए गांव को भी समृद्ध बनाना होगा। गांव के सर्वांगीण विकास के लिए सरकार कार्य कर रही है।

    मुख्यमंत्री ने कहा कि विधवाओं को पेंशन और अम्बेडकर आवास प्राथमिकता के साथ दिया जा रहा है। मुख्यमंत्री ने कहा कि आदिम जनजातियों के लिए बनाये जाने वाले आवास अगले 4 माह में मिशन मोड में पूरा करने का निर्देश दिया गया है। जन चौपाल के माध्यम से मुख्यमंत्री ने किसानों से आह्वान किया कि पूरा विश्व जैविक खेती की ओर बढ़ रहा है। आप सभी जैविक खेती करें। आप के उत्पादन की मार्केटिंग सरकार करेगी। सरकार दूसरे देशों के साथ एमओयू कर रही है, ताकि आप का उत्पादन दूसरे देशों में भेजा जाएगा। जिससे आपको डेढ़ गुना फायदा होगा। उन्होंने कहा कि दुमका में खजूर के गुड़ का प्रोसेसिंग प्लांट सरकार के द्वारा लगाया जाएगा। सरकार ग्रीन रिवॉल्यूशनरी कंपनी बनाने जा रही है, जिसमें गरीब आदिवासी समाज के लोगों को कम दर पर कृषि उपकरण दिया जाएगा। सरकार किसानों को नए नए तकनीकी सीखने हेतु दूसरे देश भेज रही है। ड्रिप इरिगेशन जैसी तकनीक से खेती कर किसान कम लागत अधिक आय अर्जित कर सकते हैं। बहुत जल्द 100 किसानों को कृषि से जुड़ी तकनीक सीखने के लिए भेजा जाएगा।

    मुख्यमंत्री ने कहा कि गांव का पैसा गांव में रहे, राज्य का पैसा राज्य में रहे इसे ध्यान में रखते हुए दुग्ध उत्पादन के क्षेत्र में आप सभी कार्य करें। वर्तमान समय मे 75 प्रतिशत दूध दूसरे राज्यों से आता है। सरकार महिलाओं को 90 प्रतिशत अनुदान राशि पर दो गाय दे रही है। मुख्यमंत्री ने कहा कि समृद्ध राज्य में कोई गरीब ना रहे यही हमारी सरकार की सोच है। सब्जी की मांग आज चारों ओर है, थोड़ा परिश्रम करें, सब्जी उत्पादन में जैविक खाद का प्रयोग करें। आपके सहयोग से निश्चित रूप से गरीबी समाप्त होगी।

    मुख्यमंत्री ने कहा कि चाहे कोई कितना भी गुमराह करे पिछले 4 साल में आपने देखा की किसी ने आपकी जमीन नहीं छीनी है। मैं यह विश्वास दिलाना चाहता हूँ कि आपकी जमीन आपसे कोई नहीं छीन सकता। गुमराह करने वालों से सावधान रहें। उन्होंने यह अपील की कि स्वयं जागरूक बने और लोगों को जागरूक करने का कार्य करें। सरकार जनता के हित मे कार्य कर रही है।

    मुख्यमंत्री ने कहा कि संताल परगना को बचाना है तो बिचैलियों को भगाना होगा। बिचैलिया इस समाज के लिए दीमक की तरह है। कोई भी आपसे सरकार की योजनाओं का लाभ दिलाने के लिए अगर किसी प्रकार की राशि की मांग करता है तो बिना संकोच 181 पर कॉल कर इसकी सूचना दें, संबंधित व्यक्ति के विरुद्ध कार्रवाई कर जेल भेजा जायेगा। भ्रष्टाचार मुक्त झारखण्ड बनाने में अपना सहयोग दें।

    मुख्यमंत्री ने कहा कि हमारी जनजातीय आबादी भोली-भाली और सरल है। अगर किसी ने लोभ लालच देकर धर्मांतरण कराने का कार्य किया तो सरकार उसे माफ नहीं करेगी। ऐसे लोगों के विरुद्ध कड़ी से कड़ी कानूनी कार्रवाई की जाएगी। हमारी संस्कृति हमारी भाषा हमारी पहचान है। मुख्यमंत्री ने कहा कि शुद्ध पेयजल सभी घर तक पहुंचाने के लिए सरकार कृत संकल्पित है। एक अभियान के तहत 2022 तक पाइपलाइन के माध्यम से सभी घरों तक शुद्ध पेयजल पहुंचाया जाएगा। यह कार्य शुरू हो गया है।

    रघुवर दास ने कहा कि बिजली के बिना विकास की कल्पना नहीं की जा सकती। दिसम्बर 2018 तक राज्य के हर घर में बिजली की सुविधा उपलब्ध होगी। वैसे जगह जहां बिजली के तार नहीं पहुंच सकते, उन जगहों पर सरकार सोलर के माध्यम से बिजली पहुंचा रही है। अगस्त 2019 तक निर्बाध रूप से 24 घंटे बिजली उपलब्ध कराने के लिए सरकार द्वारा 80 ग्रिड और 257 सब स्टेशन का निर्माण कराया जा रहा है। अगस्त 2019 से बिजली ‘आ रही है... जा रही है…’ का माहौल नही रहेगा। मई 2019 तक किसानों, उद्योग और घरेलू उपयोग के लिए तीन अलग अलग फीडर होंगे। खेती के लिए 6 घंटे निर्बाध बिजली किसानों को इस फीडर के माध्यम से मिलेगी। उन्होंने कहा कि मैं आपके पास राजनीति करने नहीं आया हूं, सरकार द्वारा पिछले 4 वर्ष में किए गए कार्यों को बताने आया हूं।

    मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य में सुखाड़ स्थिति को देखते हुए 800 करोड रुपये की राशि के लिए मांग की गई है। /सुजलाम सुफलाम' योजना के तहत राज्य भर में 5 हजार तालाब खोदे जाएंगे। है। साथ ही डीप बोरिंग भी कराए जाएंगे। सुखाड़ प्रभावित लोगों के लिए प्रखंड में शिविर लगेगा। प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के तहत शिकारीपाड़ा के 17,809 किसानों का बीमा कराया गया है। किसानों को डीबीटी के माध्यम से बीमा की राशि उपलब्ध कराई जाएगी। मुख्यमंत्री ने बताया कि संताल परगना में क्रशर यूनिट को लाइसेंस दिये जाने संबंधी नियम को सरल किया जायेगा। अवैध क्रशर को संचालन की इजाजत नहीं मिलेगी। ऐसा होने पर लोगों को रोजगार भी मिलेगा।

    मुख्यमंत्री ने कहा कि 67 साल में झारखण्ड में सिर्फ तीन मेडिकल कॉलेज थे, वर्तमान सरकार ने पिछले 4 वर्षों में 5 नए मेडिकल कॉलेज खोलने का कार्य किया। उन्होंने कहा कि पूर्व में सिर्फ 300 छात्र ही मेडिकल की पढ़ाई कर पाते थे, लेकिन अब 1200 बच्चे यहां पढ़ेंगे। झारखण्ड में डॉक्टरों की कमी नहीं होगी। दुमका, पलामू, हजारीबाग, चाईबासा तथा कोडरमा में मेडिकल कॉलेज बनाए जा रहे हैं।

     मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने झारखण्ड की धरती से दुनिया का सबसे बड़ा स्वास्थ्य बीमा योजना ‘आयुष्मान भारत- प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना’ की शुरुआत की है। इस योजना के माध्यम से कोई भी लाभुक परिवार एक वर्ष में पांच लाख तक का इलाज किसी भी सूचीबद्ध सरकारी या गैर सरकारी अस्पताल में करा सकता है। उन्होंने कहा कि झारखण्ड के 67 लाख परिवार में से 57 लाख परिवार को इस योजना से जोड़ा गया है। राज्य की 85 प्रतिशत आबादी को इस योजना से आच्छादित किया गया है। मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रधानमंत्री के न्यू इंडिया के सपने को पूरा करने के लिए हमें और कार्य करने की जरूरत है। 2020 तक आप सभी के सहयोग से हम निश्चित रूप से न्यू झारखंड बनाने में सफल होंग। हर गरीब के सिर पर छत हो, कोई भी बे दवा, बे घर, बे इलाज ना रहे।

    इस अवसर पर समाज कल्याण मंत्री डॉ. लुईस मरांडी ने कहा कि आजादी के इतने सालों बाद पहली बार केंद्र सरकार तथा राज्य सरकार ने मिलकर राज्य के गरीबों के दर्द को समझा है। उसे दूर करने का कार्य किया है। उन्होंने कहा कि सरकार ने हर घर तक खुशियां पहुंचाने का कार्य किया है। आज सरकार की विभिन्न जनकल्याणकारी योजनाएं लोगों को दिखाई दे रही है। लोग सरकार के कार्यों की प्रशंसा कर रहे है। उज्जवला योजना के माध्यम से जहां एक तरफ सरकार ने महिलाओं को सम्मान देने का कार्य किया है। वहीं, प्रधानमंत्री आवास योजना के माध्यम से गरीबों के सिर पर छत देने का कार्य सरकार द्वारा किया जा रहा है।  उन्होंने लोगों से कहा कि वो जागरूक बनकर सरकार की योजनाओं का लाभ उठाएं।  सरकार आपके लिए ही योजनाएं बनाती हैं। अगर आप सरकार की योजनाओं से वंचित रह जाएंगे, तो सही मायने में योजना सफल नहीं हो पाएगी।

    इसके उपरांत माननीय मुख्यमंत्री ने कार्यक्रम स्थल पर विभिन्न विभागों द्वारा लगाए गए स्टॉल का अवलोकन किया तथा मुख्यमंत्री कन्यादान योजना के तहत वर-वधू को आर्शीवाद दिया। उन्होंने लोगों से कहा कि सभी स्टॉल पहुंचकर सरकार की योजनाओं की जानकारी प्राप्त करें। आपके लिए ही इस स्टॉल को लगाया गया है। आप सभी योजना की जानकारी प्राप्त कर जरूरतमंद लोगों को इस योजना का लाभ लेने के लिए प्रोत्साहित करें। वहीं, दुमका के उपायुक्त मुकेश कुमार ने अपने स्वागत सम्बोधन में जन चौपाल को विकास की प्रक्रिया को पूर्ण बनाने वाला कार्यक्रम बताया।