“गांव, गरीब, किसान, महिला, नौजवानों के सशक्तिकरण के लिए समर्पित है हमारी सरकार”


    मुख्यमंत्री रघुवर दास ने बुधवार को कहा कि आज का दिन हमारे लिए बहुत महत्वपूर्ण दिन है, क्योंकि आज मां भगवती की कलश स्थापना का दिन भी है। आइए, हम सब इस शुभ दिन यह आराधना करें कि शक्ति की अधिष्ठात्री मां दुर्गा देश और राज्य से नकारात्मक शक्तियों का संहार करें। मां लक्ष्मी जन-जन को समृद्ध बनाएं और मां सरस्वती समाज में अज्ञानता रूपी अंधकार को दूर करें। इस तरह आने वाले वर्षों में एक समृद्ध राज्य, एक सुसंस्कृत राज्य और समृद्धिशाली देश बने। आजादी के 70 वर्ष बीत जाने के बाद भी करोड़ों देशवासियों का जो सपना है वह साकार हो। मुख्यमंत्री ने जमशेदपुर के माइकल जॉन ऑडिटोरियम में महाराजा अग्रसेन जयंती समारोह के अवसर पर उपस्थित जन समुदाय को संबोधित करने के दौरान ये बातें कही।

    मुख्यमंत्री ने कहा, “मैं यहां मुख्यमंत्री या मुख्य अतिथि के रूप में नहीं आया हूं, मैं आप लोगों के बीच से ही राज्य के मुख्य सेवक के रूप में उपस्थित हुआ हूं और यहां तक पहुंचाने में जमशेदपुर की जनता का बहुत बड़ा योगदान है।  इसलिए मैं जमशेदपुर की जनता को नमन करता हूं, क्योंकि मैंने सपने में भी नहीं सोचा था कि मैं राज्य का मुख्य सेवक बनूंगा। जमशेदपुर की जनता ने विधायक बनाया और जमशेदपुर की जनता ने ही राज्य का मुख्य सेवक बनाया है।”

    मुख्यमंत्री ने कहा कि झारखण्ड की सवा 3 करोड़ जनता की शक्ति और शक्ति की प्रतीक स्वरूपा मां लक्ष्मी की कृपा से आने वाले समय में झारखण्ड दुनिया के विकसित और समृद्धतम राज्यों के समकक्ष होगा। झारखण्ड के पास देशभर के 40% प्राकृतिक संसाधन है, भू-संपदा है, सरल सीधे और कुशल मानव संसाधन हैं। मानव संसाधन को हुनरमंद बनाने के लिए बजट में 700 करोड़ रुपए का प्रावधान सरकार ने किया है। दुनिया भर में ऐसी अभूतपूर्व उपलब्धि झारखण्ड के पास है कि एक ही दिन में 27000 युवाओं को रोजगार उपलब्ध कराया गया है। उन्होंने कहा कि इस बार युवा दिवस के अवसर पर जनवरी तक राज्य के एक लाख लोगों को निवेशक एवं सरकारी क्षेत्र में रोजगार दिलाने का लक्ष्य है। कोई भी काम असंभव नहीं है, बस उसको करने के लिए लगन, जुनून और समर्पण भाव होना चाहिए।

    मुख्यमंत्री ने कहा कि महाराज अग्रसेन की जयंती और शक्ति स्वरूपा मां भगवती के कलश स्थापना के दिन आध्यात्मिक ऊर्जा प्राप्त करने के लिए 9 दिन अपने मन और समाज में जो भी विकृतियां हैं, उन्हें समाप्त कर नई सकारात्मक ऊर्जा का संचार करें और घर-घर में सुख संपत्ति आए।

    मुख्यमंत्री ने कहा कि 2022 तक देश का कोई व्यक्ति गरीबी का दंश नहीं झेले, इसके लिए केंद्र सरकार द्वारा आवास योजना ग्रामीण और शहरी क्षेत्रों में चलाई जा रही है। उन्होंने कहा कि झारखण्ड सरकार का संकल्प है कि 2020 तक झारखण्ड में कोई गरीब बेघर नहीं रहेगा, इस योजना के तहत हमारी सरकार काम कर रही है। आम लोगों के जीवन को सुगम बनाने के लिए पिछले 4 वर्षों में केंद्र और राज्य सरकार ने कई उपाय अपनाए हैं।

    रघुवर दास ने कहा कि गांव, गरीब, किसान, महिला, नौजवानों के सशक्तिकरण के लिए सरकार पुरजोर तरीके से काम कर रही है। बड़ी संख्या में बैंक खाते देश भर में खुले हैं। महाराजा अग्रसेन जी की भी यही सोच थी महिलाओं का आर्थिक रूप से सशक्तिकरण करना। झारखण्ड में 17 लाख महिलाओं को स्वरोजगार के माध्यम से आर्थिक सशक्तिकरण करने का काम किया गया है। एक रुपए में महिलाओं के नाम 50 लाख तक की संपत्ति का निबंधन करने का काम सरकार द्वारा किया गया है। जिससे भ्रूण हत्या, डायन बिसाही, दहेज जैसी कुरीतियों पर रोक लगे और नारी शक्ति के प्रति सम्मान बढ़े, क्योंकि सृष्टि की जननी नारी है। कुटुंब व्यवस्था को बनाए रखने में नारी शक्ति का अप्रतिम योगदान भारतीय संस्कृति में है। कुटुंब की शक्ति को समाज की शक्ति, राज्य और राष्ट्र की शक्ति बनाने के लिए सरकार काम कर रही है।

    मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य की सबसे बड़ी शक्ति राज्य की युवा शक्ति है। इस युवा शक्ति को कुशल बनाने के लिए कौशल विकास जैसे कार्य किए जा रहे हैं। गांव में रहने वाले नौजवान के पास भी बुद्धि है। उसको हुनरमंद बनाकर रोजगार से जोड़ने के लिए स्टैंड अप इंडिया, स्टार्टअप इंडिया जैसी योजनाओं के साथ-साथ और छोटी-छोटी कंपनियां भी राज्य की युवाओं को नियोजित कर रही हैं।