इजरायल से प्रशिक्षण लेकर लौटे किसान ऑर्गेनिक खेती पर जोर दें- मुख्यमंत्री


    मुख्यमंत्री रघुवर दास से सोमवार को झारखण्ड मंत्रालय में इजरायल यात्रा पर गए किसान का एक प्रतिनिधिमंडल मिला। इजरायल यात्रा से लौटे किसानों ने मुख्यमंत्री के समक्ष अपने अनुभव एवं सुझाव रखे। किसानों द्वारा इजरायल में हो रहे उन्नत कृषि से संबंधित योजनाओं एवं कार्य अनुभव से मुख्यमंत्री को अवगत कराया। इस दौरान मुख्यमंत्री रघुवर दास ने इजरायल से प्रशिक्षण लेकर लौटे किसानों से कहा कि अपने अनुभवों को दूसरे किसानों से भी साझा करें।  उन्होंने कहा कि राज्य के 4 जिले लातेहार, खूंटी, पाकुड़ और रांची में किसान कोऑपरेटिव सोसायटी बनाकर उन्नत खेती से संबंधित कार्य योजना बनाकर पायलट प्रोजेक्ट के रूप में कार्य प्रारंभ करें। आधुनिक तकनीक का उपयोग कर ऑर्गेनिक खेती की ओर अधिक से अधिक जोर दें।

    मुख्यमंत्री ने किसानों से कहा कि आप जो इजरायल से देखकर या समझ कर आए हैं उस पर कार्य करना प्रारंभ करें। सभी जिलों में किसानों को जोड़कर कोऑपरेटिव बनाएं और बंजर जमीन में भी कम पानी से किस तरह खेती की जा सकती है उस पर कार्य करें। खेतों में सोलर फार्मिंग के माध्यम से सिंचाई की व्यवस्था करें। कम पानी में उन्नत खेती की तकनीक किसानों को समझाएं और खेती के लिए प्रेरित करें। ड्रिप पद्धति के तहत कम पानी में किस प्रकार सीधे पौधों में पानी पहुंचाया जा सकता है उस पर मंथन करें।

    मुख्यमंत्री ने प्रशिक्षण लेकर लौटे किसानों से कहा कि आप सिर्फ अपने हित में ना सोचें बल्कि समाज के विकास में अपनी महत्वपूर्ण भागीदारी निभाएं। उन्होंने कहा कि गांव, गरीब और किसान का जीवन बदलना ही सरकार की प्राथमिकता है। प्रयत्न से ही परिवर्तन होगा। लोगों की सोच बदलेगी तो हर योजना सफल होगी। राज्य सरकार ग्रामीण विकास और कृषि इन दोनों सेक्टर में प्रतिबद्धता के साथ कार्य कर रही है। किसानों की आय को दोगुनी करना सरकार की प्राथमिकता है। कृषि उपकरणों में भी सरकार द्वारा 70% सब्सिडी किसान वर्ग के लोगों को दी जा रही है। राज्य में डेयरी सोसायटी बनाकर दुग्ध उत्पादन के क्षेत्र में भी रोजगार के असीम संभावनाएं हैं। राज्य सरकार डेयरी उत्पादन को बढ़ावा देने के लिए गाय भी सब्सिडी के तहत उपलब्ध करा रही है।

    मुख्यमंत्री ने कहा कि कृषि कार्य के लिए सिंचाई से संबंधित छोटी-छोटी योजनाओं को ग्रामीण मिलकर बनाएं। गांव में आदिवासी विकास समिति एवं ग्राम विकास समिति का गठन किया गया है। ग्राम विकास समिति के अंतर्गत सिंचाई से संबंधित छोटी-छोटी योजनाओं को विस्तारित किया जाए। राज्य सरकार इन समितियों को सीधे राशि उपलब्ध करा रही है। गांव में गोबर गैस प्लांट एवं गोबर बैंक बनाएं। ऑर्गेनिक खेती में गोबर खाद की महत्वपूर्ण भूमिका होगी। स्वच्छ भारत मिशन अभियान के तहत भी गोबर बैंक या गोबर प्लांट का निर्माण योजना के सफलता के लिए महत्वपूर्ण कड़ी साबित होगा।

    इस अवसर पर मुख्यमंत्री के प्रधान सचिव श्री सुनील कुमार वर्णवाल, कृषि सचिव श्रीमती पूजा सिंघल, कृषि निदेशक श्री रमेश घोलाप, इजराइल से प्रशिक्षण लेकर लौटे किसान प्रतिनिधिमंडल के श्री सोमोक बनर्जी, श्री गंदूरा उरांव, श्री रंजीत प्रसाद, श्री नमन टोपनो, श्री राज किशोर महतो, श्रीमंत मिश्रा, श्री पंकज कुमार, श्री राधा कृष्ण केवट, श्री राजेंद्र यादव, श्री जय प्रकाश मंडल,  श्री के मोहम्मद अंसारी, श्री वकील प्रसाद यादव, श्री संतोष कुमार वर्मा, श्री शंकर भंडारी, श्री नीरज हेंब्रम, श्री अभिनव किशोर, श्री रामानंद साहू, श्री सतीश तिवारी, श्री रंजीत कुमार सिंह, श्री प्रीतम कुमार, श्री फुलेश्वर महतो, श्री रतिया महतो, श्री अब्दुल कयाम अंसारी, श्री मोहन प्रजापति, श्री अजय साहू  एवं श्री श्यामसुंदर बेदिया सहित अन्य संबंधित पदाधिकारी गण उपस्थित थे।