• Raghubar Das FB
  • Raghubar Das Twitter
  • Raghubar Das Youtube
  • -A +A
  • A
  • A
  • menu

नशामुक्त हुआ वनलोटवा गांव


    मुख्यमंत्री श्री रघुवर दास ने कहा कि हर गांव की सूरत बदलनी है। ग्रामीणों के चेहरे पर मुस्कान लाना मेरा लक्ष्य है। समृद्धशाली होने के बाद भी झारखंड की गोद में गरीबी पल रही है। हमारी सरकार बनने के बाद से राज्य से गरीबी समाप्त करने के दिशा में काम शुरू किये गये। गांव में बेरोजगारी, पलायन, अशिक्षा जैसी समस्याएं हैं। इसे जड़ से मिटाने के लिए काम किया जा रहा है। उक्त बातें उन्होंने ओरमांझी स्थित नशामुक्त हुए गांव वनलोटवा में ग्रामीणों को संबोधित करते हुए कही।
     
    मुख्यमंत्री ने कहा कि जनसहयोग के बिना बदलाव या विकास नहीं हो सकता है। बनलोटवा गांव इसका उदाहरण है। लोगों ने मिलकर अपनी इच्छाशक्ति से गांव को नशामुक्त कर लिया है। सरकार भी इसी अवधारणा से काम कर रही है। ज्यादा से ज्यादा कार्यों में जनभागीदारी बढ़ायी जा रही है। गांव के विकास के लिए विकास समितियों का गठन किया जा रहा है। अदिवासी बहुल गांवों में आदिवासी विकास समिति और मिश्रित आबादीवाले गांवों में ग्राम विकास समिति का गठन किया जा रहा है। गांव की छोटी-छोटी योजनाएं इन्हीं के माध्यम से धरातल पर उतारी जायेंगी। सरकार समिति के खाते में सीधे राशि भेज देगी। समाज को आगे आना होगा, तभी विकास होगा।

    मुख्यमंत्री ने कहा कि गांव में बेरोजगारी के मिटाने के लिए सरकार कृतसंकल्प है। एक सर्वे में पाया गया है कि राज्य की तीन लाख महिलाओं के पास जमीन या रोजगार नहीं है। इन महिलाओं को रोजगार से जोड़ा जा रहा है।  गांव में मधुमक्खी पालन, लाह उत्पादन, तसर उत्पादन, अंडा उत्पादन, वनोपज को बढ़ावा देने जैसे काम किये जा रहे हैं। राज्य के नौ जिलों में अप्रैल में 2.5 लाख मधु बॉक्स फ्री वितरित किये जायेंगे। रेडी टू इट योजना के तहत पांचों प्रमंडल में महिलाओं का समूह बनाकर भोजन तैयार कर सखी मंडल के माध्यम से वितरण किया जायेगा। इससे 10 हजार महिलाओं को रोजगार मिलेगा।
     श्री रघुवर दास ने कहा कि आजादी के बाद से कुछ नेताओं ने जनता को ठगने का काम किया है। गांव और गरीब की जिंदगी में बदलाव के लिए ठोस कदम नहीं उठाये गये। केंद्र में प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व वाली सरकार आने के बाद गरीबों की सुध ली गयी। जनता को नेताओं से सवाल पूछने का हक है। हम सब सेवक हैं। जनता मालिक है। जो काम नहीं करे, उससे सवाल पूछें। अब जनता शिक्षित होने लगी है। अब उन्हें बहलाया नहीं जा सकता है।

    नशामुक्त होने पर गांव को एक लाख रुपये की सम्मान राशि दी गयी। इसके साथ ही गांव में अच्छा काम करनेवाले ग्रामीणों को पुरस्कृत किया गया।

    मुख्यमंत्री से गांव की रासो देवी ने स्कूल के लिए शिक्षक की मांग रखी ताकि बच्चों को दूर ना जाना पड़े। इसके जवाब में मुख्यमंत्री ने कहा कि बड़ी संख्या में शिक्षक बहाल हुए हैं पर, अभी भी कमी है... जल्द ही गाँव के पढ़े लिखे बच्चों को ही इससे जोड़ने की पहल पर विचार किया जाएगा।

    मुख्यमंत्री ने नारी शक्ति को नमन करते हुए कहा कि बेटी और बेटा में फर्क ना करें। बेटियां परिवार, गांव, राज्य और देश की सूरत बदलेंगी।

    इस दौरान रांची के सांसद श्री रामटहल चौधरी, खिजरी विधायक श्री रामकुमार पाहन, भाजपा के प्रदेश उपाध्यक्ष श्री आदित्य साहु समेत अन्य गणमान्य लोग मौजूद थे।